अंगार / Angaar Lyrics in Hindi – Ikka X Raftaar

Sharing Is Caring:

Angaar Lyrics in Hindi

अंगार है
सेज़ ऑन थ बीट बॉय
इक्का इन थ हाउस बेबी
अंगार है
रफ़्तार
अंगार है
यू नो वॉट टाइम इट इस
अंगार है
लेटस गो!

खलबली हर गली
सनसनी मेरा फ्लो
पैसों के साथ खेलूँ
एनी मिनी मानी मो
10 खोखा साथ गया
तेरा एक मेरे दो
तू करे डि** ब्रो
मैं करूँ माइंड ब्लो

माइंड ब्लो करूँ जहाँ
कहीं शो करूँ
जो भी तू करता मैं
उस से भी वो करूँ

नो करूँ जहाँ नेगेटिव लोग
रफ़्तार मेरे साथ
रफ़्तार सबकी स्लो करूँ

इस ग़मे में हैं
नामे जाके फेम मेरा पूच्छ
तेरे बार्स थोड़े लेम
तभी आईं रहा चूक
तू पकड़ के खड्‍डा
अपने मालिक की पूंच्छ
तेरे मालिक का मालिक
कौन मालिक से पूच्छ

मेरी न्यू स्कूल गाड़ी में
ओल्ड स्कूल बीट चले
आदि दोस्त माल भरें
रात भर जाम चले
रोकेगा नाके पे
तौजी का नाम चले
तोरा देखा भाई का रे
कितनो की गा** जले

घमंड है
किस बात का तुझे घमंड है
तेरे टॅलेंट के चूल्हे पे ठंड है
ज़्यादा फैलेगा मुँह पे घुसंद है
तू झंड है

संयम से सीखा संभालना
आयेज निकलना रॅप इबादत मेरी
मेरा कलमा
सीखा है काँटों पे चलना
सीखा ना अपनो से जलना
सबसे खुशी सबके लिए प्यार है
फिर चाहे गोलू या फिर वो रफ़्तार है
सभी को प्यार जो जमना पार है
जो जमना पार है वो परिवार है

अंगार है
शब्द मेरे शोले भरा
शोलों का भण्डार है
कौड़ियों के भाव तेरी कला भंगार है
मेरा गाना ड्रॉप
मेरे फँस का त्योहार है
खुदा का परोपकार है
ज़ीरो अहंकार है

घूमने के लिए शू शॉया लंबी कार है
हुड वाई बातचीत मेरी जमना पार है
पुरे जमना पार में बस
अपना हाहाकार है
इक्का बैठा बीमर में
और बेन्ज़ में रफ़्तार है

यह प्यार है 10 साल बाद
पूरी बीट पे दो यार हैं
हर बात सॉफ गले मिले गीले बाहर हैं
और बात ख़ास पास मेरे
चीरने को तीसरा तैयार आए

तो धक्का नई भाई
10 साल से संभाल के जमा
की गोलू की छत वाली वाइब
हाढ़ प्यारी वाइब पिछली जो मिली
तो अगली में समझा दूँ अब वाली लाइफ

शकूर पे शक करते
शक्कर की शकल के
भाइयों की भासद में
टीजा ना दखल दे
ठाकुर की नेज़ल के
मसल दूँ थप्पड़ में
अकल में भूसा तो
घूसा ले नकल से
बकल जो उतरी तो
च्चापून मैं बगल में
छोटे भी झीतेंगे
पकड़ के चप्पल से
उपर को खीँचो तो
नीचे को ढकलते
अव्वल ना बनते हैं
दूजे की नकल के

यह पबजी का ड्रॉप
ग्रोज़ा मिलेगी और 8 वाला स्कोप
उड़ेगा स्क्वाड जो पड़े ग्रीनेड
दूँ माथे पे मॉर्टल
और स्काउट सा शॉट
मैं हाइट पे बोहट तो
स्पॉट पे लॉक्ड हूँ
बोट से लौंदे पं से रोक दूँ
फड़डे तो गद्दे एरांगले मे खोद दूँ
छींटी जो उड़े तो प्रोस को थोक दूँ

बातें हैं क्लियर
इक्का और गोलू हैं जिगर के नियर
इतना मैं बोलूं ना फिकर ना फियर है
तीनों बराबर क्या राजा वज़ीर
इंपे जो बात तो मुँह पे रसीद
तू बनेगा रंज जो मिल बैठे वियर
पीच्चे आयेज स्क्वेर बिच्छू का स्पीयर
फेटल है ब्लो गेट ओवर हियर

अंगार है
शब्द मेरे शोले भरा
शोलों का भण्डार है
कौड़ियों के भाव तेरी कला भंगार है
मेरा गाना ड्रॉप
मेरे फँस का त्योहार है
खुदा का परोपकार है
ज़ीरो अहंकार है

घूमने के लिए शू शॉया लंबी कार है
हुड वाई बातचीत मेरी जमना पार है
पुरे जमना पार में बस
अपना हाहाकार है
इक्का बैठा बीमर में
और बेन्ज़ में रफ़्तार है

फ्लो मेरा फ्रॉम टिमबक्टू
में शब्दों के साथ खेलूँ पीकबू
मैं हूँ बेकाबू लीके जॅकी छान
तू है काबू में लीके पिकछु
आब्बी शक्कर रॅप तेरा फीका क्यूँ
लगवा ले रॅप वाला टीका तू
तुम हिप होप पे लगे कीटाणु
मैं तुम्हें मिटा डून वो परमाणु

आब्बी छू बोल बच्चन
बंद कर बचन की तरह
मैं बना अपने दूं पर
मैं हूँ महल तू बेटा खण्डर
इशारों पे नाचे तू
वो कला वाला बंदर
मैं हूँ लखन
तू है विषम्भर
तू छोटे नाली में बड़ा समंदर
यह अल्बम इतनी अंडरग्राउंड
जितना अपॉकालाइप्स का बेटा बुनकर

मैं हूँ पहाड़ का से है कंकड़
पासे तो लगते हैं अब आयेज रकम पर
भा से भयंकर जय शिव शंकर
भोले की बोले तो सीधा भसम कर
भाई तेरी कला में अपने चरम पर
नोकीला खंजर भेजे के अंदर
छोड़ी लगाम जो मैने कलम पर
कलम कलम कर किस्सा ख़तम कर

मैं पीटर पार्कर
तेरे मुँह में जाले झाड़ कर
तुझे मार कर तू हार कर
गिरा पैरों में आकर
तू इस साल आराम कर
मैं इस साल भी काम पर
तेरे रेहपट रेहपट हैं कान पर
तेरा भूत बना दूँगा भांगड

अंगार है
शब्द मेरे शोले भरा
शोलों का भण्डार है
कौड़ियों के भाव तेरी कला भंगार है
मेरा गाना ड्रॉप
मेरे फँस का त्योहार है
खुदा का परोपकार है
ज़ीरो अहंकार है

घूमने के लिए शू शॉया लंबी कार है
हुड वाई बातचीत मेरी जमना पार है
पुरे जमना पार में बस
अपना हाहाकार है
इक्का बैठा बीमर में
और बेन्ज़ में रफ़्तार है

Sharing Is Caring:

I'm A Full Time Blogger o this Blog . I'm a professional website Developer in wordpress

Leave a Comment

Nulla posuere libero non elit eleifend dictum. Cras iaculis dolor neque, vestibulum mollis nisi posuere ac. Phasellus diam ex, laoreet in facilisis sit amet, suscipit in felis.